पूजा कितने बजे करनी चाहिए

भगवान तो भाव के भूखे होते हैं, इसलिए सीधी-सच्ची बात ये है कि जो भी भक्ति भाव, पूजा इत्यादि आप कहीं भी बैठ कर करते हैं वह सब भगवान को स्वीकार्य होता है परंतु बात किसी भी चीज़ को सबसे बेहतर तरीके से करने की है तो शास्त्रों में बताए गए नियमों के अनुसार उचित दिशा और समय पर पूजा करें तो उससे आपका मन पूजा में और भी अच्छा लगेगा।

आप ज़्यादा अच्छे मन से पूजा करेंगे तो उसका सकारात्मक असर आपके ऊपर भी दिखेगा और स्वाभाविक रूप से आपकी ज़िन्दगी बेहतर होती जाएगी। तो आइये इसके बारे में अधिक विस्तार से विश्लेषण करें।

पूजा करने के लिए सर्वश्रेष्ठ समय

हमारे देश के महान ऋषि-मुनियों ने अपने तपोबल से जो ज्ञान अर्जित किया, वो उन्होंने सर्व-साधारण और समाज के हित के लिए शास्त्रों और ग्रंथों में लिखा। हमें भी उन में बताए गए निर्देशों का पालन करना चाहिए। शास्त्रों में बहुत सुबह यानी भोर का समय प्रभु के ध्यान और पूजा के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया है।

सुबह के समय वातावरण बहुत शाँत होता है और साथ ही प्रदूषण भी नहीं होता है। अगर आप भोर में ब्रह्म मुहूर्त के समय लगभग 4:30 या 5 बजे उठ सकें तो नित्य कर्म के बाद शुद्ध होकर आप ध्यान-पूजन में शांत भाव से बैठ जायें। वैसे तो ब्रह्म मुहूर्त 4 बजे ही शुरू हो जाता है पर आजकल कि भागदौड़ भरी ज़िंदगी में ख़ास तौर पर नौकरीपेशा लोगों के लिए 4 बजे उठना मुश्किल हो सकता है।

लेकिन आप देखेंगे कि थोड़े से अभ्यास के बाद इस तरह से पूजा कर के दिन की शुरुआत करने के बाद आपको पूरे दिन एक बहुत ही सुंदर एहसास होगा। उसके बाद समय रहे तो ऑफिस जाने से पहले एक बार टहलते हुए पास के मंदिर में दर्शन करने के लिए भी जा सकते हैं।

पूजा कितने बजे करनी चाहिए

पूजा करने के अन्य समय

वैसे तो भोर का समय पूजा-पाठ के लिए सर्वश्रेष्ठ है परंतु शास्त्रों के अनुसार भगवान की पूजा-अर्चना दिन में एक से अधिक बार भी कर सकते हैं। अपनी व्यस्तता के बीच संभव हो तो भोर में ध्यान, पाठ और भगवान की आरती के अलावा अन्य समय में भी पूजा पाठ किया जा सकता है। पूजा-पाठ के लिए जो अन्य समय उचित हैं वो इस प्रकार से हैं।

सुबह में 9 से 10 बजे तक पूजा कर सकते हैं 

यदि आप स्वास्थ्य या किन्ही अन्य कारणों से भोर में पूजा नहीं कर सकते तो सुबह में 9 से 10 बजे तक भी आप पूजाकर सकते हैं। ये वो समय होता है जो अधिकतर कामकाजी पुरुषों या महिलाओं के लिए उचित भी होता है। अतः आप सुबह नहा धो कर 9 से 10 बजे तक के बीच में भी पूजा कर सकते हैं।

दोपहर में 3 से 4 बजे तक पूजा कर सकते हैं

कई लोग ऐसे कामकाजी भी होते हैं जो सुबह 9 से 10 बजे तक, अपने काम के सिलसिले में अतिव्यस्त होते हैं तो उनके पास बिलकुल भी समय नहीं होता कि वो सुबह 9 से 10 बजे तक वाली पूजा कर सकें तो उनके लिए बेहतर होगा कि वे दोपहर में तीसरी बार पूजा करने के समय में अपने घर के मंदिर के कपाट बंद कर दें। और दोपहर में 12 से 2 बजे तक पूजा कर सकते हैं।

शाम को 5 से 6 बजे तक पूजा कर सकते हैं

जिन्हे अपने काम  के सिलसिले में, फिर वो चाहे व्यापार हो या नौकरी, सुबह से ले कर दोपहर तक पूजा करने का बिलकुल भी समय ना मिल पता हो तो वो वो अपनी पूजा शाम को कर सकते हैं। अमूमन शाम के समय अधिकतर लोगों के पास समय होता है जिससे कि वो अपनी पूजा शाम को कर सकते हैं। शाम के समय लगभग 5 से 6 बजे के आसपास आप अपनी पूजा और आरतीकर सकते हैं।

रात में 9 से 11 बजे तक पूजा कर सकते हैं

इन सब के बावजूद कोई-कोई दिन इतना व्यस्त जाता है कि आप सुबह के निकले निकले सीधे रात को घर आ पाते हैं। ऐसी परिस्थिति में यदि थकान के बाद भी आपका मन पूजा करने का कर रहा है तो आप रात में भी पूजा कर सकते हैं।घर लौटने के बाद रात में लगभग 9 से 11 बजे तक के आसपास आप पूजा कर लें फिर दिन की अंतिम आरती कर लें और भगवान को पूरी श्रद्धा से शयन करायें।

सुबह भोर वेला में पूजा करने के अलावा शाम का समय भी बहुत ही श्रेष्ठ समय होता है ध्यान और पूजा-पाठ के लिए क्योंकि सूर्यास्त के बाद एक बार फिर वातावरण शाँत होने लगता है। अंत में आप जब सोने के लिए बिस्तर पर जायें तो दिन का समापन अच्छे विचारों और भगवान को धन्यवाद देने के साथ करें कि उन्होंने आपको और आपके परिवार को स्वस्थ, सुरक्षित और सद्बुद्धि से प्रेरित रखा।

प्रार्थना जितनी सरल और सच्चे ह्रदय से होती है, उतनी ही जल्दी उसका असर होता है। हो सके तो किसी भी देवता का जिनका आप मुख्य रूप से स्मरण और पूजा करते हों, सोने से पहले अगर आप उनके नाम की एक माला जप कर के सोयेंगे तो आपका मन बिल्कुल निर्मल और शाँत हो जायेगा, साथ ही बहुत ही अच्छी नींद आएगी।

पूजा-पाठ इसलिए ज़रूरी है क्योंकि जैसे हर काम को करने का एक विशेष ढंग होता है, उसी तरह भगवान की अराधना के जरिए सच्चे मन से की गयी आपकी पूजा भगवान तक ज़रूर पहुँचती है। अगर आप दिन में 5 बार पूजा करें तो बहुत अच्छा, नहीं तो अगर व्यस्त हैं तो आप ब्रह्म मुहूर्त में उठ कर पूजा-पाठ करने के बाद शाम को भी एक बार अगर पूजा करें तो सुबह-शाम सच्चे मन से की गयी ये पूजा अंदर तक प्रफुल्लित और परिपूर्ण कर देगी।

जीवन की असली सफलता बुरे विचारों और विकारों से अपने आपको बचा कर भगवान के पूजन-ध्यान से सच्ची प्रार्थना कर के भगवान का आशीर्वाद पाना ही है।

Rashmi Desai का बोल्ड लुक सोशल मीडिया पर छाया हुआ है नेहा शर्मा (Neha Sharma) एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री हैं मोनालिसा का बोल्ड अंदाज उनके फोटोशूट में नज़र आया रश्मि देसाई (Rashami Desai) का बोल्ड फोटोशूट सोशल मीडिया पर छाया Famous soap opera star Robyn Griggs passed away