सुगंध के चमत्कारिक प्रयोग

सुगंध के चमत्कारिक प्रयोग

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि सुगंध अर्थात परफ्यूम वह चमत्कारिक द्रव्य है, जिसका उपयोग करके आप अपने जीवन में बहुत कुछ पा सकते हैं जो पाने की इच्छा रखते हैं। बस आपको इस बात का ध्यान देना होगा कि यह आपके द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली सुगंध ज्योतिष शास्त्र के परामर्श के अनुसार है कि नहीं, क्योंकि आपके द्वारा अपने लिए सही सुगंध का प्रयोग जहां आपके जीवन में चमत्कारिक प्रभाव डाल सकती है वहीं इसके विपरीत बिना सोचे समझे किसी भी सुगंध का उपयोग करना आपके जीवन में समस्या ला सकता है ।

हम यह जानते हैं कि हमारा शरीर हमारे मन -मस्तिष्क के अनुसार चलता है। यदि हमारा मन सकारात्मकता से भरा हुआ है तो हम अपने हर कार्य में सफल होते हैं जबकि इसके विपरीत यदि हमारा मन नकारात्मकता की ऊर्जा से परिपूर्ण है तो वह हमें असफलता दिलाता है।

इसलिए हम सही सुगंध का उपयोग करके अपने जीवन में अपेक्षित बदलाव ला सकते हैं। आज हम आपसे अलग- अलग सुगंध को कैसे उपयोग में लायें, इस बात की चर्चा करेंगे, ताकि आप अपने जीवन में सुगंध का चमत्कारिक प्रभाव प्राप्त कर सकें।

सुगंध अध्ययन को प्रोत्साहित करती है

ऐसा देखा जाता है कि कुछ बच्चों का मन अपनी पढ़ाई-लिखाई में नहीं लगता है। ऐसी दशा में आपके द्वारा किया गया छोटा सा कार्य आपके बच्चों के जीवन में परिवर्तन ला सकता है। ज्योतिष शास्त्र कहता है कि यदि आप अपने बच्चे के पढ़ने वाले स्थान पर चंदन की सुगंध का उपयोग करें तो इसकीसुगंध पढ़ने वाले बच्चों में पढ़ाई के प्रति रुचि जागृत करेगी। साथ ही अध्ययन के प्रति एकाग्रता भी बढ़ाएगी।

चंदन की सुगंध के प्रभाव से बच्चे अपने स्टडी रूम में टेबल पर लंबे समय तक बैठकर पढ़ते हैं। क्योंकि चंदन की सुगंध में दैवीय प्रभाव का वास होता है इसलिए अपने घर पर पढ़ने वाले बच्चों के आस पास चंदन की धूप बत्ती या चंदन की प्राकृतिक परफ्यूम का उपयोग करने से आपके घर के बच्चे अधिक से अधिक ज्ञान पाने के लिए प्रेरित होंगे।

 सुगंध व्यवसाय को बढ़ावा देती है

ज्योतिष शास्त्र का कहना है कि यदि आप अपने कार्यस्थल या व्यावसायिक संस्थान में चंदन की सुगंध का उपयोग करें तो आपके कामकाज में चमत्कारिक प्रभाव नजर आने लगते हैं। इसकी सुगंध से ग्राहक आकर्षित होते हैं। साथ ही आपके अपने ग्राहकों के साथ संबंध प्रगाढ़ होते हैं। आप अपने नौकरी करने के स्थान पर भी चंदन की हल्की खुशियों का उपयोग कर सकते हैं। इससे आपका अपने कार्य में मन लगता है और आपके अपने बॉस से अच्छे संबंध बनते हैं।

 सुगंध बीमारियों को दूर भगाता है 

यदि आप जल्दी-जल्दी बीमार हो जाते हैं तो आपका एक कार्य आपके जीवन में अच्छा स्वास्थ्य ला सकता है। साथ ही जो लोग स्वस्थ है यदि वह भी इस उपाय को अपनाते हैं तो वह जल्दी अस्वस्थ नहीं होते हैं। आपको करना बस इतना है कि आप अपने नहाने के जल में गुलाब की हल्की सुगंध अथवा गुलाब जल मिला लें।

आपके ऐसा करने से आपके स्नान करने के साधारण जल में चमत्कारिक प्रभाव पैदा हो जाएंगे । नित्य गुलाब के पुष्प से सुगंधित जल से नहाने के पश्चात आप अपने रोग, शोक आदि से मुक्ति प्राप्त कर लेंगे। जिन लोगों को जल्दी-जल्दी नजर लग जाती हो उनके लिए यह उपाय रामबाण है ।

सुगंध नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है

यदि आपका मन अवसाद, दुख या नकारात्मक ऊर्जा से भरा हुआ है तो इसके लिए एक उपाय आपके जीवन में नई बहार लेकर आ सकता है।  बस इसके लिए आप अपने दैनिक जीवन में गुलाब की हल्की सुगंध का उपयोग करके देखें ऑफिस या दुकान पर जाने के लिए घर से निकलने से पहले अपने शरीर या कपड़ों पर हल्की-फुल्की परफ्यूम का प्रयोग करें। आपके द्वारा बढ़ाया गया यह कदम आपको ऊर्जावान कर देगा। साथ ही यह उपाय आपको सफल व्यक्ति बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

 गुलाब की सुगंध आपको आपके प्यार के पास ले जाता है

गुलाब की सुगंध आपसी संबंध को बढ़ावा देती है। यदि आप अपने प्रेम संबंधों में प्रगाढ़ता लाना चाहते हैं तो इसके लिए गुलाब की सुगंध का उपयोग कर सकते हैं। आपको प्राकृतिक फूलों की सुगंध का उपयोग करना अधिक अच्छे प्रभाव दिला सकता है यह उपाय रूठे हुए प्रेमी-प्रेमिका को एक दूसरे को मनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता हैं। ज्योतिष शास्त्र कहता है कि विद्यार्थियों को गुलाब की सुगंध से दूर रहना चाहिए क्योंकि ऐसा करना उनके मन में भटकाव ला सकता है।

सुगंध आपको ईश्वर का आभास कराती है

यदि आप स्वच्छ जल से स्नान करने और अपने आराधना स्थल पर गुग्गल की सुगंध का उपयोग करते हैं तो यह आपको आध्यात्मिक कार्यों में सफलता दिलाता है, साथ ही आपके जप तप सिद्ध होने में गुग्गुल की सुगंध सकारात्मक प्रभाव डालती है। इसलिए दैवीय कृपा पाने के लिए गुग्गुल का उपयोग करना चाहिए।

सुगंध घर के भूत प्रेत आदि को भगाता है 

यदि आपके घर में किसी नकारात्मक ऊर्जा का निवास है तो ऐसी दशा में आपको सप्ताह में एक दिन लोहबान की सुगंध पूरे घर में घुमानी चाहिए। जिसके बाद आपके घर में निवास कर रही कोई नकारात्मक शक्ति टिक नहीं पाएगी। क्योंकि लोहबान की सुगंध उसे आपके घर को छोड़ने के लिए मजबूर कर देगी।

प्रायः देखा गया है कि आपके व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में आध्यात्मिक कार्यों से जुड़े हुए साधु लोग एक धुआं लेकर आपके व्यवसायिक प्रतिष्ठान में चारों ओर फैलाते हैं। यह धुआं लोहबान का ही होता है। यह आपके व्यवसायिक प्रतिष्ठान में दैवीय प्रभाव का विकास करती है।

सुगंध जबरदस्त आकर्षण की वस्तु है 

यदि आपको किसी व्यक्ति को अपनी और आकर्षित करना है तो ऐसी दशा में आपको लैवंडर की सुगंध का भरपूर उपयोग करना चाहिए। इस सुगंध को आपको अपने शरीर या कपड़ों में लगाने के बाद लोग आपकी ओर आकर्षित होंगे ।  क्योंकि लैवंडर की भीनी भीनी सुगंध संबंधों को बढ़ावा देती है ।

सुगंध कब और कहां लगाई जानी चाहिए

ज्योतिष शास्त्र का कहना है कि यदि आपको सुगंध का चमत्कारिक प्रभाव लेना है तो सुगंध को हमेशा स्नान के उपरांत अपनी कलाई, गले के पीछे या नाभि अथवा कपड़ों में इसका उपयोग करना चाहिए। इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि जहाँ तक हो सके सुगंध प्राकृतिक हो, आर्टिफिशियल नहीं। एक महत्वपूर्ण बात यह की सुगंध जितनी हल्की होगी उसका प्रभाव उतना ही अधिक होगा। इसलिए तेज गंध वाली सुगंध से बचें।

कौन सी सुगंध का प्रयोग करना चाहिए

ऐसी सुगंध जो आपकी मन -मस्तिष्क को तरोताजा कर दे। हमेशा ऐसी सुगंध का उपयोग करना चाहिए। आप बेला, गुलाब , मोगरा, चंदन लैवंडर आदि किसी भी सुगंध का उपयोग कर सकते हैं। यदि चाहे तो सुगंध के लिए गुलाब जल का भी उपयोग किया जा सकता है। किसी भी परफ्यूम को खरीदते समय इस बात का ध्यान अवश्य देना चाहिए कि उसकी सुगंध तेज गंध वाली न हो, क्योंकि तेज परफ्यूम विपरीत प्रभाव डाल सकती है।

सुगंध शरीर के सातों चक्रों को जागृत करने में सहायक होती है

ज्योतिष शास्त्र कहता है कि भीनी भीनी सुगंध का उपयोग चमत्कारिक है। यह शरीर के सात चक्र मूलाधार चक्र, स्वाधिष्ठान चक्र, मणिपूरक चक्र, अनाहत चक्र, विशुद्ध चक्र,आज्ञा चक्र, एवं सहस्रार चक्र को जागृत करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करती है ।

सुगंध प्रेत आत्माओं को भी अपनी ओर आकर्षित करता है

जहां सुगंध में लाख अच्छाइयां हैं वही एक बुराई भी है। कि यदि हम गलत जगह पर अथवा अपने शरीर में तेज सुगंध वाली परफ्यूम का उपयोग करते हैं तो  यह हमारे चारों ओर विचरण करने वाली अदृश्य प्रेत आत्माओं को भी आकर्षित कर सकती है जो हमें परेशान कर सकती है। इसलिए जहाँ तक हो सके हमें हल्की सुगंध वाली परफ्यूम का ही उपयोग करना चाहिए। साथ ही सुगंध लगाकर देर रात गये किसी एकांत स्थान पर जाने से बचना चाहिए।

सितंबर में पैदा हुए व्यक्तियों के प्रेम को समझ पाना बहुत मुश्किल है ओवरवेट Rashmi Desai ने सिर्फ वॉक करके घटाया अपना वज़न विद्या बालन ने अपनी अनेक फिल्मों में बोल्ड सीन दिये जो चर्चा में रहे