म्यूच्यूअल फंड क्या है, इसमें कैसे निवेश करें

म्यूच्यूअल फंड (Mutual Fund) क्या हैहर आदमी की यह अभिलाषा रहती हैं कि वह रातों-रात करोड़ पति बन जाये। अपनी इसी इच्छा को पूर्ण करने के लिये वह अपने चारों तरफ विकल्प तलाश करता है। वह व्यक्ति धनी बनने के लिये वही रास्ता ढूंढता है जिसमें जोखिम कम से कम हो। बल्कि उसकी यही कोशिश रहती हैं कि वह अपना पैसा उसी स्कीम में लगाये जहाँ जोखिम न हो।

ऐसे में नाम आता है म्युच्युअल फंड (Mutual Fund) का, यह उन व्यक्तियों के लिये भी अति उत्तम तरीका है, जिनके पास इनवेस्ट के लिये कम धनराशि हैं। सरल शब्दों में कहें तो म्यूच्यूअल फंड अमीर बनने का एक सुरक्षित रास्ता है, जिसमें पैसा इन्वेस्ट करके आपको मिल सकता है आपके लगाये हुए धन का कई गुना। लेकिन सबसे पहले मन में प्रश्न उठता है कि आखिर ये म्युच्युअल फंड क्या है?

म्यूच्यूअल फंड एकत्र किया हुआ वह धन है जिसमे अनेक निवेशक अपना धन इन्वेस्ट करते हैं। उनके एकत्र किये हुए धन को अनेक जगहों में लगाया जाता है जिससे की लाभार्जन हो। म्युच्युअल फंड (Mutual Fund) का उद्देश्य यही है कि इसमें एकत्र धनराशि उस जगह लगायी जाती है जहाँ फायदे की गुंजाइश हो। Mutual Fund की शुरुआत वर्ष 1963 में ‘म्यूचुअल फंड उद्योग’ के रूप में हुई थी। इसका उद्देश्य छोटे और बड़े दोनों प्रकार के निवेशकों को अपने साथ जोड़ना था।

म्यूचुअल फंड के प्रकार

म्युच्युअल फंड (Mutual Fund) निम्नलिखित प्रकार के होते हैं।

  1. Equity Mutual Fund
  2. Debt. Mutual Fund
  3. Hybrid Mutual Fund
  4. Solution Oriented Mutual Fund

म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने के फायदे

म्यूचुअल फंड में पैसा इन्वेस्ट करने के निम्नलिखित फायदे हैं :–

  • जब आप अपना धन म्यूचुअल फंड में जमा करते हैं तो ऐसा मान कर चलिये कि आपने अपने धन को बढ़ाने का सही रास्ता चुन लिया है। क्योंकि इस फंड में इनवेस्टमेंट विशेषज्ञ उसी स्थान पर निवेश करते हैं जहाँ भविष्य में लाभ की गुंजाइश सबसे अधिक हो। इसलिए म्यूच्यूअल फंड में पैसा जमा करने के बाद आप चैन की नींद सो सकते हैं। क्योंकि आपको विश्वास हो जाना चाहिए कि आपने अपने धन का सही उपयोग किया है। इसमें आपका धन कुछ समय पश्चात बढ़कर ही वापस मिलेगा।
  • म्यूचुअल फंड में धन लगाने के लिए आप आपके पास कई विकल्प हैं। उदाहरण के लिये Grow, My Cams, Invest Tap आदि। इस तरह आप अपने रुपयों को एक स्थान पर न लगाकर कई जगह लगा सकते हैं जिससे निवेशकों को अपने धन की अधिकतम सुरक्षा मिलती है।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि म्यूचुअल फंड में आप आसानी से पैसा लगा सकते हैं और आवश्यकता पड़ने पर उसे वापस भी ले सकते हैं। कहने का अर्थ यह है कि यहाँ आपका यह धन पूर्णतया सुरक्षित रहता है।
  • म्यूच्यूअल फंड से आप ऑनलाइनऔर ऑफलाइन दोनों तरह से जुड़ सकते हैं। इसमें यह सुविधा है कि आप ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन दोनों तरह से फंड में पैसा जमा कर सकते हैं और निकाल सकते हैं। आपको जो भी रास्ता  सरल लगे उसका उपयोग कर सकते हैं।
  • म्यूच्यूअल फंड से जुड़ने के लिए शेयर मार्केट की तरह इसमें अधिक धन की आवश्यकता नहीं होती है। म्यूचल फंड की स्थापना का उद्देश्य यही था कि इसमें कम पूंजी वाले लोग भी जुड़ सकें। धन के बदले धन कमाने का एक किफायती तरीका है यह। इसलिए यह तरीका लोगों के द्वारा अधिक पसंद किया जाता है।

म्यूच्यूअल फंड के निवेशकों को टैक्स बेनिफिट भी है। इतने लाभों के बावजूद आप म्यूचुअल फंड में निवेश करते समय पूरी जानकारी से अवगत अवश्य हो जायें। क्योंकि हर लाभ के साथ नुकसान भी जुड़ा होता है। किसी भी फंड में निवेश करते हुये उससे जुड़ा हुआ सारा लिटरेचर पढ़ना चाहियें।

म्यूचुअल फंड में निवेश करने का तरीका

म्यूचुअल फंड में आप अपना धन ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों दोनों तरह से लगा सकते हैं। अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप कौन सा रास्ता चुनें। म्यूच्यूअल फंड से जुड़ने के लिये आपको जो भी रास्ता सरल लगे, उसे चुना जा सकता है। यदि आप म्यूचुअल फंड में ऑफलाइन तरीके से अपना धन निवेश करना चाहते हैं तो सीधे म्यूचुअल फंड के कार्यालय या अपने बैंक में जा सकते हैं। जहाँ फॉर्म भर कर आप अपना पैसा जमा करा सकते हैं।

इसके अलावा दूसरा तरीका ऑनलाइन है। इसके लिए आपको म्यूच्यूअल फंड की वेबसाइट पर जाना होगा। जिसमें निर्देशानुसार अपनी पूरी डिटेल्स एवं इनवेस्ट की जाने वाली धनराशि भरकर म्यूचुअल फंड में पैसा लगा सकते हैं। लेकिन यदि आप किसी सलाहकार के माध्यम से अपना धन, Mutual Fund में निवेश करना चाहते हैं तो भी यह एक उत्तम मार्ग है।

जिन लोगों को इस फंड के बारे अच्छी जानकारी नहीं है, वह एडवाइजर से सलाह परामर्श लेकर अपना धन इनवेस्ट करते हैं क्यों कि उन्हें डर रहता है कि कहीं उनका मेहनत से कमाया धन गलत जगह निवेश करने पर लाभ के चक्कर में हानि न हो जाये। एक तरह से देखा जाये तो यह सही भी है क्यों कि फंड विशेषज्ञ से सलाह लेकर हम अपने धन को सुरक्षित जगह निवेश कर पाते हैं।

लेकिन सलाहकार के माध्यम से म्यूचुअल फंड में धन इन्वेस्ट करने पर आपको उसे  कमीशन देना पड़ता है। जबकि डायरेक्ट म्युचुअल फंड में जुड़ने से आप कमीशन देने से बच जाते हैं। इस प्रकार आपको होने वाले लाभ का प्रतिशत बढ़ जाता है।

सितंबर में पैदा हुए व्यक्तियों के प्रेम को समझ पाना बहुत मुश्किल है ओवरवेट Rashmi Desai ने सिर्फ वॉक करके घटाया अपना वज़न विद्या बालन ने अपनी अनेक फिल्मों में बोल्ड सीन दिये जो चर्चा में रहे